personal

अन्त: मन [The Soul]

सच की खोज में निकले जो चेहरे वो अनजान थे जिस जहांन को सच कहा वो भी एक फरेब था। अपनों के वीर थे वो दुश्मनों के थे वो मीर आत्मा ही चूर हो जब तो क्या गलत और क्या सही। In search of truth, the faces which left were Read more…

By knightofsteel, ago
personal

I Don’t Belong. [Poem]

I’m sitting in an empty room, it is filled with souls covered in meat. I’m trying to forget the past, scarred body and worn out feet. I am surrounded by smiles and happiness all along, and all I can think is I don’t belong. Words don’t make sense, the pages Read more…

By knightofsteel, ago
Random

Guest Post: Fury

It’s in the dark, The moon shines. Its pallor, Alighting the night. With the sunrise, She’s lost her time, Now the innocence, On verge of dying. She sees red, Hands, though tied. She has felt the dead, Take a flight. She is destruction, With unfurled winds, Of iron, strong A Read more…

By knightofsteel, ago
personal

दिल का दिया। [Translated: The Heart’s Light]

रंगों के त्योहार पर वो फीकी ज़िन्दगी जी रहा था, रोशनी के दिनों में उसकी जिंदगी में अंधेरा छा रहा था। शहर के शोर में एक सूनी ज़िन्दगी कटे जा रही थी, नींद की मारी आंखों में एक पुरानी नमी आ रही थी। जिस दिन जला दिल के कोने में Read more…

By knightofsteel, ago
personal

उनसे पूछो। [Translated: Ask them]

जब वो काले दिन आये, जब मन में गम का साया छाया। दिमाग ने कहा दोस्तों से पूछो, वहीं से तुमने अब तक आराम है पाया। दोस्तों से पूछा तो वो बोले हमसे न होगा कुछ दोस्त, अपने पालकों से पूछो। पालकों ने कहा पंडितों से पूछो और पंडित ने Read more…

By knightofsteel, ago
Visit blogadda.com to discover Indian blogs