रंगों के त्योहार पर वो फीकी ज़िन्दगी जी रहा था,

रोशनी के दिनों में उसकी जिंदगी में अंधेरा छा रहा था।

शहर के शोर में एक सूनी ज़िन्दगी कटे जा रही थी,

नींद की मारी आंखों में एक पुरानी नमी आ रही थी।

जिस दिन जला दिल के कोने में एक छोटा सा दिया,

तो एक एक करके दिमाग में छाया अंधेरा भी चला गया।

On the festival of colors, he was living a faded life,

His life was dark in the days of light.

In the city noise, a quiet life was being passed,

An old mist was coming in the eyes devoid of rest.

On the day that a little light appeared in the corner of his heart,

Then day by day, the dark shadow in the mind took its leave.