जब वो काले दिन आये, जब मन में गम का साया छाया।

दिमाग ने कहा दोस्तों से पूछो, वहीं से तुमने अब तक आराम है पाया।

दोस्तों से पूछा तो वो बोले हमसे न होगा कुछ दोस्त, अपने पालकों से पूछो।

पालकों ने कहा पंडितों से पूछो और पंडित ने कहा भगवान से पूछो।

भगवान ने कहा दिल से पूछो और दिल ने बोला दिमाग से पूछो।

दिमाग से पूछा तो बोला, बहुत भटक लिए दोस्त।

अब समय आ गया है, ये दुनिया ही छोड़ दो।

When the dark days came, when the shadow of gloom lay in the heart.

The mind said, ask friends, from there you have found rest till now.

Asked by friends, then they said we can’t do anything, ask your parents.

The parents told me to ask the pundits and the Pandit told me to ask God.

Lord said ask the heart and  the heart said, ask the mind.

Interrogated, the mind, he said,

“O’ Wandering friend,

Now the time has come, leave this world.”